उन्मुक्त चंद की तरह टीम इंडिया के इन 3 खिलाड़ियों ने भी किया अमेरिका का रुख, अब वहीं से खेलेंगे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट

उन्मुक्त चंद : भारतीय क्रिकेट में बेहतरीन खिलाड़ियों की भरमार हैं। इतना टैलेंट है कि सबको उनके टैलेंट के हिसाब से खेलने के मौके नहीं मिल पाते। ऐसे कई खिलाड़ी अन्य मुल्कों में भी हैं लेकिन आज हम बार सिर्फ भारत की कर रहे हैं। ऐसे खिलाड़ी जो पैदा भारत में हुए।

शुरुआती क्रिकेट भारत में खेली। लेकिन भारत के लिए खेलने का उनका सपना अधूरा ही रह गया।आज हम आपको ऐसे 3 खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे हैं। जिन्होंने क्रिकेट खेलना शुरू किया भारत से लेकिन बाद में अलगदेश जाकर खेलने लगे अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट।

सौरभ क्रिकेट (Saurabh Netravalkar)

भारत के लिए साल 2010 का अंदर 19 खेलने वाले सौरभ नेत्रवल्कर उन्हीं खिलाड़ियों की फेहरिस्त से हैं। जो पैदा भारत में हुए और शुरुआती क्रिकेट भारत में खेली लेकिन बाद में किसी और दूसरे देश जाकर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेली। सौरभ नेत्रवल्कर एक तेज गेंदबाज थे, 2010 के अंडर 19 वर्ल्ड में सौरभ नेत्रवल्कर भारत की ओर से सबसे ज्यादा विकेट लिए।

इसके बाद सौरभ नेत्रवल्कर US चले गए वहाँ उन्होंने अपनी बाकी की पढ़ाई पूरी की। सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के बाद सौरभ नेत्रवल्कर वापस भारत लौटे आए। साल 2013-2014 में सौरभ नेत्रवल्कर ने मुंबई के लिए रणजी में अपना डेब्यू किया। लेकिन यहाँ ज्यादा मौके नहीं इलते देख सौरभ नेत्रवल्कर अमेरिका चले गए।

वहाँ उन्होंने क्रिकेट खेलना जारी रखा।साल 2018 में उन्होंने अमेरिका की कप्तानी भी की। सौरभ नेत्रवल्कर ने USA के लिए कुल 43 वनडे खेले हैं जिनमें 67 विकेट हासिल किए हैं। वहीं 20 टी20 मैचों में 19 विकेट चटकाए हैं। वो CPL में गुयाना ऐमज़ान वारियर्स की ओर से खेलते हुए भी दिख चुके हैं।

इब्राहिम खलील क्रिकेट(Ibrahim Khaleel)

इब्राहिम खलील की कहानी और ही ज्यादा रोमांचक है। साल 2007-2008 में भारत में एक प्राइवेट लीग शुरू हुई थी। इंडियन क्रिकेट लीग जिसे बाद में बीसीसीआई ने बैन कर दिया था। इब्राहिम खलील उस लीग को जीतने वाली टीम हैदराबाद हीरोज के हिस्सा थे।बीसीसीआई ने लीग पर पाबंदी लगाने के बाद उसमें खेल रहे युवा भारतीय क्रिकेटरों को वापसी का मौका दिया।

इब्राहिम खलील वापस से घरेलू क्रिकेटखेलने लग गए। हैदराबाद की ओर से खेलते हुए असम के खिलाफ एक रणजी मैच में इब्राहिम खलील ने एक मैच में सबसे ज्यादा डिस्मिसल करने वाले विकेटकीपर का रिकॉर्ड अपने नाम किया था। उन्होंने उस मैच में 14 डिस्मिसल किए थे। जिनमें 11 कैच और 3 स्टमपिंग थीं।

साल 2015 तक भारत में काफी घरेलू क्रिकेट खेलने के बाद इब्राहिम खलील ने भारत छोड़ USA का रुख कर लिया। उन्होंने USA की नागरिकता ले ली और वहीं से क्रिकेटिंग करियर को आगे बढ़ाया। साल 2017-2018 में उन्होंने USA की कप्तानी भी। जो कि बाद में सौरभ नेत्रवल्कर को सौंप दी गई।

इब्राहिम खलील अपनी बल्लेबाजी से ज्यादा अपनी विकेटकीपिंग के लिए जाने जाते थे। उन्होंने 57 फर्स्ट क्लास मैचों में 29 की औसत से 2158 रन बनाए और 186 कैच और 25 स्टंपिंग सहित 211 शिकार किए। वहीं 47 लिस्ट ए मैचों में, उन्होंने 22 की औसत से 818 रन बनाए और 59 कैच और 17 स्टंपिंग के साथ 76 शिकार किए।

तिमिल पटेल क्रिकेट (Tamil Patel)

39 साल के तिमिल पटेल ने भारत के लिए 2003 अंडर 19 वर्ल्ड कप खेला था। तिमिल पटेल स्पिन गेंदबाजी ऑल राउंडर थे। उन्होंने साल 2002 से लेके 2009 के बीच 23 के औसत से 1169 रन बनाए। वहीं 38 के औसत से 72 विकेट भी चटकाए।

तिमिल पटेल ने साल 2002 में रेस्ट ऑफ इंडिया की ओर से ईरानी ट्रॉफी में अपना फर्स्ट क्लास डेब्यू किया था। उसके बाद भारत में अधिक मौके न मिलने के चलते तिमिल पटेल यूएसए चले गए और कुछ समय के लिए और वहाँ USA की टीम का हिस्सा रहे।

यूएसए के लिए खेलते हुए तिमिल पटेल ने 7 वनडे मैचों में 25 की औसत से 6 विकेट चटकाए। वहीं 7 टी20 अंतर्राष्ट्रीय मुकाबलों में 13 की औसत से 12 विकेट लिए हैं। वहीं साल 2018 में 5 मैचों में 11 विकेट लिए। तिमिल पटेल को कैरेबियन प्रीमियर लीग (CPL) में सेंट लूसिया जोक्स ने अपनी टीम का हिस्सा बनाया था।

telegram :https://t.me/sarkariexpress1

Leave a Comment